कम्प्यूटर का इतिहास | History of Computer in Hindi 2022

history of computer in hindi

जब कंप्यूटर की खोज नही हुई थी तब दुनिया गिनती करने के लिए अपने हाथ पांव की उँगलियों का इस्तेमाल करती थी मगर जेसे कहते है “आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है ” उसी तरह कंप्यूटर की खोज करना शुरू हो गया | कंप्यूटर का इतिहास ( History of Computer in Hindi ) बहुत पुराना है | मनुष्य के विकास में कंप्यूटर का कितना महत्व है ये तो हम सभी जानते ही हैं |

कंप्यूटर का इतिहास 1500 साल से भी पुराना है | पहले व्यापर करने में जब गिनती करनी होती थी तो लोगो को हाथ की उँगलियों का सहारा लेना पड़ता था | और अगर गिनती ज्यादा होती थी यानि 1000 तक तो उनको कंकर और पथर का सहारा लेना पड़ता था |

गणना शब्द लैटिन कैलकुलस से आया है, जिसका अर्थ है छोटा पत्थर। अगर हम बात कंप्यूट की करें तो ये कहना मुश्किल है की इतिहास में कंप्यूटर की शुरुआत कहाँ से हुई मगर हाँ अबेकस जिसको की फर्स्ट काउंटिंग मशीन भी कहा जाता है उसके कुछ सबूत 2500 वर्ष पहले के भी मिले हैं | हम शुरुआत अबेकस से ही करेंगे | “computer ki history” . learn what is computer

अबेकस ( Abacus )

Abacus स्लाइडिंग काउंटर और रॉड का उपयोग करके गणना करने के लिए एक उपकरण वास्तव में दुनिया का पहला कैलकुलेटर है। यूरोप, चीन, रूस में अबाकस का उपयोग किया गया था। सर्वप्रथम Abacus device का आविष्कार गणना करने के लिए लगभग 600 ईसा पूर्व चीन में हुआ था. अबेकस को Soroban (सोरोबान) के नाम से भी जाना जाता हैं.

Abacus
Abacus

Abacus का अविष्कार किस देश में हुआ ये कहना थोडा मुश्किल है मगर सम्भवत इसका अविष्कार चीन में हुआ था और उसके बाद इसका उपयोग यूरोप रूस और बाकि देशो तक फ़ैल गया |

Abacus का पुराना संस्करण एक उथले ट्रे में रेत से मिलकर था, और आवश्यकता होने पर संख्याओं को आसानी से मिटा दिया जा सकता था, लेकिन आधुनिक अबाकस लकड़ी या प्लास्टिक से बना है। यह एक आयताकार बॉक्स है जिसमें नौ ऊर्ध्वाधर छड़ें मोती के साथ होती हैं |

प्राचीन समय में Abacus का इस्तेमाल गणना करने में वहुत ज्यादा किया जाता था |

John Napier’s Bone (जॉन नेपियर बॉन )

John Napier’s अपनी 1617 पुस्तक (लैटिन में लिखित) रबोडोलिया के भाग 1 में वर्णित किया गया है। नेपियर बॉन्स हड्डियों, हाथी के दांत या धातु से बनी छड़ें होती हैं. जिनके उपर नंबर लिखे होते हैं. इस यंत्र को Card Board Multiplication Calculator भी कहते हैं.

ये पूरी तरह से मैकेनिकल और सही मायने में कैलकुलेटर है | इसका उपयोग भाग गुणना और रूट निकलने में कर सकते थे |

जॉन नेपियर, एक स्कॉटिश नोब्लियन और राजनेता ने गणित के अध्ययन के लिए अपने बहुत ही अवकाश के समय को समर्पित किया। वह विशेष रूप से गणना करने के तरीकों को तैयार करने में रुचि रखते थे। उनका सबसे बड़ा योगदान लॉगरिदम का आविष्कार था। उन्होंने 10 लकड़ी की छड़ के एक सेट पर लॉगरिदमिक माप अंकित किए और इस प्रकार रॉड्स पर संख्याओं को मेल करके गुणा और विभाजन करने में सक्षम था। ये नेपियर की हड्डियों के रूप में जाना जाने लगा।

Blaise Pascal(1623-1662) (पास्कलाइन)

19 साल की उम्र में एक फ्रांसीसी गणितीय प्रतिभा के ब्लेज़ पास्कल ने 1642 में मशीन का आविष्कार किया, जिसे Adding Machine भी कहते हैं इसको उन्होंने पास्कलिन कहा जो अपने पिता की मदद करने के लिए जोड़ और घटाव कर सकता था, जो गणितज्ञ भी थे। पास्कल की मशीन में 10 दांतों के साथ गियर की एक श्रृंखला शामिल थी, यह मशीन घड़ी और ओडोमीटर के सिद्धान्त पर कार्य करता हैं |

Blaise Pascal
Blaise Pascal

जो संख्या 0 से 9 का प्रतिनिधित्व करती थी। क्योंकि प्रत्येक गियर ने एक मोड़ बनाया था, इस सिद्धांत ने उनकी मृत्यु के बाद सदियों से सभी calculation करने वाली मशीनों की नींव बनाई। पास्कल प्रोग्रामिंग भाषा का नाम उनके सम्मान में रखा गया था।

1673 – Gottfried Wilhelm von Leibniz (1646-1716)

गॉटफ्राइड विल्हेम वॉन लीबनिज़ ने सर इसहाक न्यूटन के स्वतंत्र रूप से विभेदक और अभिन्न कैलकुस का आविष्कार किया, जिसे आमतौर पर एकमात्र क्रेडिट दिया जाता है। उन्होंने गणना की मशीन का आविष्कार किया जिसे लीबनिज़ के व्हील या Reckoning Machine के नाम से जाना जाता है।

यह पास्कल की मशीन की तरह जोड़ और घटाव कर सकती थी लेकिन इसे साथ यह गुणा और विभाजित भी कर सकता है।

Jacquard’s Loom (जेकार्ड का लूम)

फ़्रांस के एक बुनकर जोसेफ जेकार्ड ने कपड़े बुनने के एक ऐसे Loom का आविष्कार किया था. जो कपड़ों की डिजाईन का पैटर्न स्वयं ही तैयार कर देता था. जिसका नियंत्रण कार्ड बोर्ड के छिद्रयुक्त पंचकार्डो (Punch Card) द्वारा किया जाता था.

जेकार्ड के इस लूम ने computer के विकास में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया. इससे दो विचारधाराएँ निकलकर सामने आयी.

  1. सुचना को Punch Card पर अंकित किया जा सकता हैं.
  2. Punch Card पर संग्रहित सूचना को निर्देशों का समूह माना जा सकता हैं. जो प्रोग्राम के रूप में कार्य करता हैं.

Difference Engine (डिफरेंस इंजन)

Difference Engine एक यांत्रिक कैलकुलेटर है जिसे पहली बार 1822 में चार्ल्स बैबेज द्वारा विकसित किया गया था। यह संख्याओं के कई सेटों की गणना करने और परिणामों की हार्ड कॉपी बनाने में सक्षम है। गणित के प्रोफ़ेसर Charles Babbage (चार्ल्स बैबेज) ने सन 1822 ई. में पास्कलाइन से प्रेरणा लेकर ‘Difference Engine’ नामक गणना करने वाली एक यान्त्रिक मशीन विकसित की, ताकि विश्वसनीय रिजल्ट प्राप्त की जा सकें.

History of Computer in Hindi
History of Computer in Hindi

who was Charles Babbage ?

Charles Babbage (1791-1871) Cambridge विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर थे |

चार्ल्स बैबेज का जन्म 179 1 में एक अमीर लंदन-क्षेत्र बैंकिंग परिवार के लिए हुआ था और, कई स्कूलों में और विभिन्न ट्यूटर्स द्वारा शिक्षित होने के बाद, उन्होंने 1810 में कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज में दाखिला लिया।

बैबेज को 1816 में रॉयल सोसाइटी के एक फेलो चुने गए थे, जो कैम्ब्रिज से सिर्फ दो साल पहले थे, और अंततः 1828 में गणित के लुकासियन प्रोफेसर बन गए,

इनके समय में उद्योगिक क्रांति हो गयी थी और उस समय ऐसे सिस्टम के जरूरत थी जो कैलकुलेशन और काम आटोमेटिक तरीके से कर सके | उस टाइम बड़े बड़े उधोगो का काम मुंशी सम्भालते थी जो की काफी गलतियाँ कर देते थी | समय की मांग थी और इसको पूरा करने का सपना Charles Babbage ने देख लिया |

बैबेज की सबसे बड़ी परियोजना, Analytical Engine (1836) एक मशीन थी जो गणना की गई टेबल में महत्वपूर्ण त्रुटियों को रोककर सरकारी धन को बचाने और हाथ से कॉपी करने का इरादा रखती थी लेकिन अपने डिजाइन पर बीस साल के महंगा काम के बाद – उनके अपने साथी के साथ मतभेदों और गृहस्थ जीवन की प्रॉब्लम के कारण उनका ये डिजाईन अधुरा रहा |

Charles Babbage को आधुनिक युग के कंप्यूटर का जनक और father of modern computer भी कहा जाता है | और ऐसा इसलिए है क्यूंकि इनका Difference Engine आज के कंप्यूटर के समान काम करता था उसमे हम इनपुट दे सकते थी उसमे प्रोसेसिंग होती थी और आउटपुट भी आता था |

Ada Agusta

लेडी ऑगस्टा एडा लवलेस को चार्ल्स बैबेज के साथ कंप्यूटर पर उनके काम के लिए जाना जाता है – वह कंप्यूटिंग और प्रोग्राम लिखने की तकनीक को पहचानने वाली पहली व्यक्ति थीं – वह प्रभावी रूप से पहली कंप्यूटर प्रोग्रामर थीं।

चार्ल्स बैबेज के बाद उनके सहयोगी Ada Agusta (एडा आगस्टा) ने इस कार्य को आगे बढाया और ‘Analytical Engine’ का क्रियाशील मॉडल तैयार कर दिया. जो स्वयं क्रियान्वित भी होता था. इसके लिए उन्हें निर्देश के समूह को संग्रहित करना पड़ा.

निर्देशों के समूह को संग्रहित करने की उनकी किया के कारण उन्हें ‘प्रथम प्रोफ़ेसर’ कहा गया. एडा आगस्टा अंगेजी के प्रसिद्ध कवि लार्ड बायरन की पुत्री थी.

Keyboard Machine

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में Keyboard Machine का विकास सन् 1980 में हुवा. इसमें आकडों व निर्देशों को देने के लिए Keyboard का प्रयोग किया जाता था. आज भी Keyboard का इस्तेमाल अत्यधिक प्रभावी रूप से हो रहा हैं. ये खोज उस समय में बहुत मत्वपुरण साबित हुई और इनसे आगे आने वाली इनपुट प्रणाली का बेस रखने का काम किया |

Hollerith Census Tabulator

जनगणना अमरीका में 1881 main ho rahi थी | इसमें जो सबसे बड़ी खामी पाई गयी वो ये पाई गयी की कोई भी सिस्टम ऐसा नही तो जो इस काम को जल्दी से पूरा कर सके और एक्यूरेसी भी बहुत कमजोर पाई गयी | यही से शुरुआत होती है हर्मन होलेरिथ के आईडिया की उन्होंने समय की डिमांड को अच्छी तरह से समझ और एक मशीन का निर्माण कर दिया | मशीन का नाम Hollerith Census Tabulator रखा गया |

होलेरिथ के इस मशीन की मदद से जनगणना का कार्य मात्र 3 वर्षों में पूरा कर हो गया. जब की सन् 1880 ई. में जनगणना का कार्य 7 वर्षों में पूरा हुआ था. इनका आविष्कार पूरी तरह से हीट रहा | होलेरिथ का कॉन्फिडेंस आसमान शुने लगा और उन्होंने एक कंपनी की शुरुआत की |

सन् 1896 ई. में हर्मन होलेरिथ ने ‘Tabulating Machine Company’ बनाई. आगे चलकर इस कंपनी का नाम बदलकर Computer Tabulating Recording Company हो गया.

पुनः सन् 1924 में इस company का नाम बदलकर IBM (International Business Machine) रखा गया. जो आज पूरे विश्व में computer manufacturing (निर्माण) करने वाली सबसे बड़ी कंपनी बन गयी हैं. आज ये कम्पनी दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी में से एक है | इस कंपनी ने आगे चल कर दुनिया में कंप्यूटर की परगति में महत्वपूरण योगदान दिया है |

Popular Computer inventions

Mark-1 Computer

हावर्ड विश्वविद्यालय के Dr. Howard A. Aikin (डॉ. हावर्ड ए. एकिन) ने IBM के साथ मिलकर एक स्वचालित गणना करने वाली Machine को विकसित किया. जिसका आधिकारिक नाम Automatic Sequence Controlled Calculator रखा गया. लेकिन आगे चलकर इसका नाम मार्क-1 हो गया.

यह विश्व का पहला विद्युत यान्त्रिक कंप्यूटर था. क्यों की इसमें विद्युतीय व यान्त्रिक दोनों ही प्रकार के उपकरण लगे थे. यह कंप्यूटर आकार में अत्यधिक बड़ा और बनावट में काफी जटिल था. साथ ही यह लगभग 50 फुट लम्बा और 8 फुट ऊँचा भी था.

मार्क-1 कंप्यूटर में लगभग 3 हजार से भी ज्यादा विद्युत स्विच लगे थे. जिसकी मदद से जोड़, घटाव, गुणा, भाग इत्यादि की क्रियाएँ सम्पूर्ण होती थी.

  • हार्वर्ड मार्क 1 का वजन लगभग पांच टन था और यह 50 फीट से अधिक लंबा था।
  • हार्वर्ड मार्क 1 ने परमाणु युद्ध के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, क्योंकि इसका इस्तेमाल पहले परमाणु बमों को डिजाइन करने में मदद के लिए किया गया था।
  • हार्वर्ड मार्क 1 पहला कंप्यूटर था जिसे एक विशिष्ट चीज़ को हल करने के लिए बनाए जाने के बजाय किसी भी संख्या में समस्याओं को हल करने के लिए प्रोग्राम किया जा सकता था।
  • हार्वर्ड मार्क 1 को अमेरिकी नौसेना द्वारा 1959 में नष्ट किए जाने तक लगातार इस्तेमाल किया गया था।

ABC (First Electronic Computer)

First Electronic Computer – ABC भौतिकी एवं गणित के प्रोफ़ेसर डॉ. जाँन एटानासॉफ ने अपने सहयोगी क्लिफार्ड-बैरी के साथ मिलकर प्रथम Electronic Computer बनाया. जिसका नाम ABC अर्थात Atanasoff Berry Computer रखा गया. इस कंप्यूटर का उपयोग एक साथ अनेक समीकरण का सामाधान करने के लिए किया गया.

ENIAC

ENIAC कंप्यूटर का पूरा नाम Electronic Numerical Integrator and Calculator हैं. इस कंप्यूटर का निर्माण सन् 1940 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की सेना के प्रयोग के लिए किया गया था. और इसने वो काम बखूभी निभाया भी १९४५ में जब सेकंड वर्ल्ड वर समाप्त हुआ तो इसको सभी के उपयोग के लिए आगे किया गया |

यह एक विशाल कंप्यूटर था. इसमें 18 हजार Vaccum Tubes का इस्तेमाल किया गया. इस कंप्यूटर का इस्तेमाल संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की सेना में 1955 तक किया गया.

EDSAC

इस कंप्यूटर का पूरा नाम Electronic Delay Storage Automatic Calculator था. यह सबसे पहला संग्रहित प्रोग्राम कंप्यूटर था. यानी की इस कंप्यूटर पर पहली बार Program को Run किया गया था.

इसे सन् 1940 ई. में वाँन न्यूमैन के सिद्धांत के आधार पर प्रोफ़ेसर Morice Wilkes, जो की गणित प्रयोगशाला कैम्ब्रिज विश्वविधालय में थे. उन्होंने ने ही इसको विकसित किया था.

EDVAC

EDVAC का पूरा नाम Electronic Discrete Variable Automatic Computer हैं. सन् 1950 में वाँन न्यूमैन ने एडवैक का विकास किया. जिसमें अंकगणितीय क्रियाओं हेतु Binary अंक प्रणाली का प्रयोग किया तथा निर्देशों को भी Digital प्रारूप में संग्रहित किया गया.

Universal Automatic Computer (UNIVAC)

इस कंप्यूटर का विकास सन् 1946 से 1951 के मध्य Eckert एवं Mauchly ने अपनी संस्था में व्यापारिक अनुप्रयोगों हेतु किया था. लेकिन बहुत ही जल्द यह बेकार सिद्ध हो गया.

UNIVAC l

सन् 1954 में यूनिवैक में थोड़ा परिवर्तन कर यूनिवैक- l नामक कंप्यूटर को विकसित किया गया. जिसका व्यापारिक अनुप्रयोग सर्वप्रथम जनरल इलेक्ट्रॉनिक कंपनी ने किया. यह प्रथम व्यापारिक एवं वाणिज्य महत्व वाला कंप्यूटर था.

IBM 701 and IBM 650

इंटरनेशनल बिजिनेस मशीन (IBM) कंपनी के संस्थापक के छोटे पुत्र थॉमस वाटसन ने इस कंप्यूटर का निर्माण किया. IBM कंपनी ने सर्वप्रथम IBM 701 कंप्यूटर का निर्माण किया. फिर बाद में सन् 1955 में IBM 650 कंप्यूटर का विकास किया.

mcq computer history

What was the name of first computer designed by Charlse Babbage?

Difference Engine

The term Computer is derived from……….

Latin

Who is the inventor of Difference Engine?

Charles Babbage

Who is the father of Computer?

Charles Babbage

Who is the father of Computer science?

Allen Turing

Who is the father of personal computer?

Edward Robert 

The first computers were programmed using

machine language 

UNIVAC is.

Universal Automatic Computer

EDSAC stands for

Electronic delay storage automatic calculator

EDVAC stands for __

Electronic Discrete variable automatic computer

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया

Charles Babbage

Leave a Comment

Your email address will not be published.